सुझाव

हम होना जो चाहते हो तो मैं मैं करना बंद करो दिल में रहना चाहते हो तो ख़ुद में रहना बंद करो सरल नहीं होता है समर्पण ख़ुदको प्रेम में…

Continue Reading

ग़लती

मैं... मैं ग़लतियों का पुलिंदा हूँ और ख़ुदकी की ग़लती किसे दिखती है अक्सर नहीं दिखती पर जब कोई दिखाता है तो मैं कोशिश करता हूँ देखने की कभी-कभी नहीं…

Continue Reading

Mixed Signals

मुझसे नाराज़ रहती है और बात भी करना चाहती है कैसी पागल लड़की है इश्क़ में करना क्या चाहती है

Continue Reading

अवशेष

इश्क़ के इतने किस्सों में भी हम पीछे ही रह गए इश्क़ आया हिस्सों में और हम हिस्से ही रह गए।

Continue Reading

दूर होने के सवाल पर

ख़तरनाक लत समझते हैं? सुबह उठते ही बासे मुँह सबसे पहले उसे मुँह लगाना, फिर दिन में 12-15 बार जब तलक होंठ उसे छू न लें ज़ायक़ा साँसों में न…

Continue Reading

कच्चे रिश्ते

मिट्टी के बर्तन में दरार तो साफ़ दिखती है लेकिन वो आयी किस तरफ़ से ये कोई नहीं बता सकता रिश्तों में भी ऐसा ही होता है हर कोई सोचता…

Continue Reading

क्यूँ का जवाब

मोहब्बत में जब कोई बदल जाता है उसका सच भी झूठ में बदल जाता है दुनिया की नज़र से देखकर प्यार को अच्छे-अच्छों का इक़रार बदल जाता है

Continue Reading
Close Menu