Intensity

इस मर्तबा दिल ही नहीं भरोसा भी टूटा है
इस मर्तबा दर्द भी ज़्यादा है और नफरत भी

Leave a Reply

Close Menu