नाटक

तुम मेरे थे ही नहीं कभी और होने का नाटक करते रहे
बेबाक़ी से झूठ बोले जो तुमने हम उन्हें सच समझते रहे

Leave a Reply

Close Menu