यथार्थ

इश्क़ में यूँ भी कभी होता है जब इश्क़ इश्क़ जैसा नहीं लगता
जब चाँद चाँद ही लगता है और महबूब महबूब नहीं लगता

Leave a Reply

Close Menu