मतभेद

मोहब्बत के इतने किस्सों में
हर किस्सा मेरा अधूरा रहा
कभी वो मुझसे रूठ गयी
कभी मैं उसे गवारा* न रहा

*बर्दाश्त

Leave a Reply

Close Menu