बेचारी

ख़ुशियाँ आके फुसफुसाती है कानों में
ज़िन्दा कैसे रहूँ मैं ज़िन्दगी के तूफानों में

This Post Has 2 Comments

  1. Such a true thought on life, expressed so beautifully! 🙂

    1. Thank you 🙂

Leave a Reply

Close Menu