चाय बार


दुनिया इधर की उधर हो जाये लेकिन,
तुम जान-ए-मन,
जैसी की तैसी मिलती हो,
चाय बार में,
काँच के प्याले में..
और एक-दो चुस्कियों में,
जुबां को मीठा कर जाती हो,
वैसे बहुत कड़वाहट भर दी है,
इस दुनिया ने मेरे दिल में,
क्या दिल के लिए भी,
कोई चाय आती है?

Leave a Reply

Close Menu